बेमेतरा : शासन के रीति-नीति के अनुरुप नये कृषि पंपों का ऊर्जीकरण जल्द से जल्द करने और ऊर्जीकृत पंपों को निर्बाध बिजली आपूर्ति देने के लिए विभाग तत्परता से कार्य कर रहा है। इसी तारतम्य में छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड, दुर्ग क्षेत्र के विभागीय संभाग साजा के अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2020-21 के अंतर्गत 77 किसानों के पंप ऊर्जीकृत किये जा चुके हैं। जिनमें ग्राम बुंदेली, मुड़िया, चोरभट्ठी, बिरनपुर, मुनगाटोला, देवरबीजा, राखी, गाड़ाडीह, बोरतरा, कुम्हीगुड़ा, सोहागपुर, देउरगांव, बुधवारा, परसबोड़, सिघनपुरी, अम्लीडीह, करही, लालपुर, कुसमी, सांकरा, कोटा, खर्रा, बोरिया, भिम्भौरी, करेली, तारालीम, बहेरा, बोरसी आदि शामिल हैं।
             ग्राम परपोड़ी के किसान श्री जगतराम पाल ने बताया कि पहले अल्प वर्षा, खण्ड वर्षा, सूखा एवं अकाल जैसी समस्याओं के कारण खेती-किसानी में बहुत नुकसान होता था इसलिए हमने अपने खेत में बोर खुदवाकर पंप के लिए स्थायी विद्युत कनेक्शन हेतु आवेदन किया। विद्युत कंपनी की सजगता से पंप कनेक्शन मिल गया एवं वोल्टेज भी सही तरीके से मिल रहा है। उन्होंने बताया कि अब सूखे की चिंता से मुक्त होकर खेतों में दोहरी फसल भी ले सकते हैं। राज्य शासन का आभार व्यक्त करते हुए ग्राम राखी के किसान श्री मानाराम यादव कहते हैं कि बिजली और पानी की उचित व्यवस्था हो जाने के कारण अब धान के अलावा अन्य फसलें भी उगा सकेंगे, इससे किसान आर्थिक रुप से भी समृद्ध होंगे। पंप कनेक्शन मिल जाने से निश्चित रुप से खेती-किसानी में फायदा होगा।
           छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड, दुर्ग क्षेत्र के कार्यपालक निदेशक श्री संजय पटेल ने कहा कि कृषक हितैषी योजनाओं का क्रियान्वयन विद्युत विभाग द्वारा पूरी सजगता से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शेष आवेदक किसानों के पंप ऊर्जीकरण का कार्य भी प्रगतिरत है, जिससे कि किसानों को कृषि कार्य हेतु पर्याप्त पानी मिल सके।