नई दिल्‍ली । कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी  ने  ‘डिजिटल रैली' में कहा है कि बिहार की जनता बदलाव चाहती है। उन्होंने कहा कि  आगामी बिहार विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी सभी सहयोगी दलों को साथ लेकर सकारात्मक एजेंडे के साथ जनता के बीच जाएगी। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि राहुल गांधी की इस ‘डिजिटल रैली' में कांग्रेस के 1000 से अधिक पार्टी पदाधिकारी प्रत्यक्ष रूप से शामिल हुए।पार्टी की बिहार इकाई के वरिष्ठ नेताओं और प्रदेश, जिला एवं ब्लॉक स्तर के पदाधिकारियों को वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी निशाना साधा।
कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल के अनुसार, राहुल गांधी ने बैठक में कहा कि हम बिहार के लोगों को न्याय दिलाने और विकास के लिए सकारात्मक एजेंडे के साथ चुनाव में जाएंगे।राहुल ने कहा कि बिहार की जनता बदलाव चाहती है, ऐसे में सबको साथ लेकर और विकल्प बनकर जनता के बीच जाना है।सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में राहुल ने कहा, ‘‘मैंने फरवरी में कोरोना और आर्थिक संकट के बारे में आगाह किया था कि तूफान आने वाला है। मैं यहां दोहराना चाहता हूं कि मैंने खुशी से नहीं बोला था। जब मैं बोलता था तो दुख होता था। उस वक्त मुझे दिख रहा था हिंदुस्तान में क्या होने वाला है।''
उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले समय में इससे भी बड़ा तूफान आने वाला है।लद्दाख में चीनी सेना की कथित घुसपैठ के मुद्दे को लेकर भी राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि देश की सीमा की रक्षा करते हुए बिहार रेजीमेंट ने चीन को करारा जवाब दिया, लेकिन प्रधानमंत्री सेना के साथ खड़े नहीं हुए और चीनी घुसपैठ से ही इनकार कर दिया।सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस नेता ने बिहार में कोरोना और बाढ़ की स्थिति को लेकर नीतीश कुमार पर निशाना साधा और दावा किया कि इन मुद्दों और भ्रष्टाचार को लेकर नीतीश की चुप्पी यह साबित करती है कि मुख्यमंत्री के तौर पर वह विफल रहे हैं।