केनबरा । ऑस्ट्रेलिया ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए अपने दूसरे सबसे बड़े शहर मेलबर्न में फिर रात के कर्फ्यू का ऐलान किया है। दिन में यहां के लोग अपने घरों से पांच किलोमीटर के दायरे में ही यात्रा कर सकेंगे। यह कर्फ्यू अगले छह हफ्तों तक जारी रहेगा। रात 8 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक केवल जरूरी सेवा से जुड़े लोग, स्वास्थ्यकर्मी और पुलिस को ही बाहर निकलने की अनुमति दी जाएगी।  विक्टोरिया राज्य के प्रीमियर डैनियल एंड्रयूज ने राज्य आपदा की घोषणा करते हुए मेलबर्न में स्टेज 4 के प्रतिबंधों को लगाने की तैयारी की जा रही है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा है कि मेलबर्न में कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति और भयावह होने वाली है। उनके अनुसार 13 सितंबर तक इस शहर में कोरोना के मामले उच्च स्तर तक जा सकते हैं। यहां जुलाई के शुरुआत में भी कर्फ्यू लगाया गया था लेकिन इससे संक्रमण के प्रसार पर कोई असर नहीं पड़ा। डैनियल एंड्रयूज ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए समय की पाबंदी, सावधानियों और चेतावनी का समय अब खत्म हो गया है। यदि कर्फ्यू के दौरान आप घर पर नहीं हैं या आपको कोरोना का संक्रमण है और आप अपने बिजनेस पर जा रहे हैं तो आपसे कठोरता से निपटा जाएगा। यहां सबका जीवन दांव पर लगा है। इस दौरान मेलबर्न के लोग दिन में बाहर सिर्फ एक घंटे ही एक्सरसाइज कर सकते हैं। 
इसके अलावा उन्हें घर से पांच किलोमीटर से दूर जाने की इजाजत नहीं होगी। प्रत्येक घर से केवल एक व्यक्ति को ही आवश्यक वस्तुओं के लिए खरीदारी करने की इजाजत होगी। मेलबर्न के अधिकतर स्कूल और विश्वविद्यालयों में कुछ ही दिन पहले ही क्लासेज शुरू हुईं थीं। जिन्हें फिर बंद करने का आदेश जारी किया गया है। अब छात्र घर बैठे ऑनलाइन माध्यम से ही पढ़ाई करेंगे। इसके अलावा शहर में शादियों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। मेलबर्न में जुलाई के शुरुआत में भी कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए कर्फ्यू लगाया गया था, लेकिन इसका कोई विशेष फायदा देखने को नहीं मिला। अब जब मेलबर्न में स्टेज 4 के प्रतिबंधों को लगाने की तैयारियां की जा रही हैं तो उम्मीद है कि इससे शहर में कोरोना का संक्रमण रोकने में मदद मिले। ऑस्ट्रेलिया में अभी तक कोरोना के 18 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं, जबकि 208 लोगों की मौत हो चुकी है।