नई दिल्ली | कोरोना वायरस रोग (Covid-19) और संक्रमण  मामलों की उच्च दर को देखते हुए तेलंगाना और कर्नाटक देश का अगला हॉटस्पॉट बनने जा रहे हैं। इसके तीन फैक्टर हैं - मामलों की उच्च वृद्धि दर, उच्च कोरोना पॉजिटिव दर, और कम से कम एक बड़ा शहरी केंद्र जो मामलों हॉटस्पॉट है - महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली के लिए आम हैं। एचटी ने देश के 20 सबसे हिट राज्यों के आंकड़ों का विश्लेषण इन तीन मापदंडों पर उन क्षेत्रों की पहचान की है जो संकेत दे रहे हैं कि वे अगले कोविड -19 हॉटस्पॉट बन सकते हैं। तेलंगाना, कर्नाटक, गुजरात, असम, आंध्र प्रदेश और ओडिशा में से तेलंगाना और कर्नाटक हॉटस्पॉट बन सकते हैं।

मंगलवार तक 25,733 कोविड -19 मामलों के साथ, तेलंगाना महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली, गुजरात और उत्तर प्रदेश के बाद देश का छठा सबसे खराब हाल वाला राज्य हो गया है। पिछले दो हफ्तों में, राज्य ने देश में सबसे तेजी से बढ़ते सक्रमण को देखा है। तेलंगाना ने पिछले दो हफ्तों में औसतन हर दिन 1,219 नए मामले दर्ज किए। 

भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 22,752 नए मामले सामने आए हैं। वहीं 482 कोरोना मरीजों की मौत भी हुई है। इसके साथ ही कोरोना वायरस के देश में पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 7,42,417 हो गई है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक, इसमें 2,64,944 सक्रिय मामले हैं। राहत की बात यह है कि अभी तक 4,56,831 मरीज या तो ठीक हो चुके हैं या फिर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

महाराष्ट्र की बात करें तो राज्य में कोरोना वायरस के 5,134 नए मामले सामने आए। इसके साथ, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 217,121 तक पहुंच गए। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार इन मामलों में 118,558 ठीक हो गए हैं और 9,250 की मौत हो गई है।