SBI ग्राहकों के लिए जरूरी खबर:18 सितंबर से बदल जाएगा ATM से कैश निकालने का नियम; जानिए अब पैसे निकालने के लिए आपको क्या करना पड़ेगा?
 

अब एसबीआई के एटीएम से 10 हजार रुपए या इससे अधिक राशि निकालने पर दिन में भी ओटीपी की जरूरत होगी। -फाइल फोटो
बैंक ने ओटीपी बेस्ड एटीएम विड्रॉल सुविधा को 24x7 लागू करने का फैसला किया है
एटीएम कैश विड्रॉल का यह नियम 18 सितंबर 2020 से देश भर में लागू होगा

लॉकडाउन के दौरान एटीएम फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इसके मद्देनजर अब देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने वन टाइम पासवर्ड यानी कि ओटीपी बेस्ड एटीएम कैश विड्रॉल सुविधा को 24×7 लागू करने का फैसला किया है। यह सुविधा देशभर के सभी एसबीआई एटीएम पर 18 सितंबर से लागू होगी।

दिन में कभी भी पैसे निकालने पर ओटीपी लगेगा

अब एसबीआई के एटीएम से 10 हजार रुपए या इससे अधिक राशि निकालने पर दिन में भी ओटीपी की जरूरत होगी। अभी तक रात में आठ बजे से सुबह आठ बजे 10 हजार रुपए या इससे अधिक राशि निकालने पर ही ओटीपी की जरूरत होती थी। बैंक ने 1 जनवरी से नया नियम लागू किया था। इसके तहत 10 हजार रुपए या उससे अधिक रकम निकालने पर ओटीपी बेस्ड कैश विड्रॉल को रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक पेश किया गया था।

पैसे अब कैसे निकलेगा ?

अब 18 सितंबर यानी इस शुक्रवार से अगर आप 10 हजार या इससे ज्यादा पैसे निकालने एटीएम जाते हैं तो अब आपके पास कार्ड एंटर करने और अमाउंट डालने के बाद बैंक की तरफ से रजिस्टर्ड मोबाइल पर एक ओटीपी आएगा। इस ओटीपी को डेबिट कार्ड की पिन के साथ डालना होगा, तभी आप एसबीआई के एटीएम से पैसे निकाल पाएंगे।

एटीएम फ्रॉड रोकने में मिलेगी मदद

एसबीआई के एमडी (रिटेल और डिजिटल बैंकिंग) सीएस सेट्टी ने कहा कि तकनीकी सुधार और सेफ्टी के मामले में एसबीआई हमेशा सबसे आगे रहा है। हमें उम्मीद है कि 24x7 ओटीपी-आधारित कैश विड्रॉल की सुविधा से सुरक्षा स्तर को और ज्यादा मजबूती मिलेगा। दिनभर इस सुविधा को लागू करने से एसबीआई डेबिट कार्डधारक धोखेबाजों, अनधिकृत निकासी, कार्ड स्कीमिंग, कार्ड क्लोनिंग और इसी तरह के जोखिम से बच सकेंगे।

देशभर में 22,000 से अधिक ब्रांच

देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई की देशभर में 22 हजार से ज्यादा ब्रांच हैं। एसबीआई की मौजूदगी 30 से ज्यादा देशों में है। SBI के 6.6 करोड़ से ज्यादा ग्राहक मोबाइल बैंकिंग और ATM की सुविधा का इस्तेमाल करते हैं।