• लुधियाना जिले के गांव खानपुर में कोरोना के संदिग्ध मामले देखने पहुंचा था एमपीएचडब्ल्यू मस्तान सिंह, दो घंटे नहीं लौटा तो पहुंची टीम
  • 8-9 लोगों ने उन्हें उनकी पगड़ी से बांधकर मारपीट की, हत्या करके नहर में फेंक देने की धमकी भी दी

लुधियाना जिले के गांव खानपुर में लोगों को कोरोना टेस्ट करवाने के लिए प्रेरित करने गए स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी के साथ मारपीट का मामला सामने आया है। इतना ही नहीं, जब विभाग की टीम उसे बचाने पहुंची तो टीम पर भी लोगों ने हमला कर दिया। पीड़ित को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, वहीं इस घटना का वीडियो भी सामने आया है। दूसरी ओर पता चलने के बाद पुलिस ने भी मामले की जांच शुरू कर दी है।

पीड़ित मस्तान सिंह ने बताया कि वह जरखड़ स्थित सब सेंटर में मल्टीपर्पज हेल्थ वर्कर हैं। गुरुवार को डॉ. अमित अरोड़ा ने उन्हें गांव खानपुर गांव में लोगों को कोरोना टेस्टिंग के प्रति जागरूक करने के लिए भेजा था। वहां प्रभु दा डेरा में 8-9 लोगों ने उन्हें उनकी पगड़ी से बांधकर मारपीट की। इसके बाद स्टाफ के लोगों ने वहां पहुंचकर छुड़ाया। लोग टीम पर भी हमलावर हो गए। आरोपियों ने टीम के मेंबर्स की हत्या करके नहर में फेंक देने की धमकी भी दी।

एएनएम हरप्रीत कौर ने बताया कि मस्तान सुबह खानपुर में स्थित डेरे में कोरोना के संदिग्ध मामले देखने गए थे। दो घंटे बीत जाने के बाद भी जब वह न लौटे और न फोन पर संपर्क हुआ तो टीम मौके पर पहुंची। वहां मस्तान को बांधकर रखे जाने के बारे में पता चला। आरोपियों ने उन पर भी हमला कर दिया। इस दौरान उन्होंने डेरे के साधु का फोन छीनकर उससे मस्तान को पीटे जाने का वीडियो हासिल किया। वहीं सीएचसी इंचार्ज डॉ. अमित ने पता चलने पर इस घटना के संबंध में पुलिस को सूचना दी।

थाना डेहलों के एएसआई नरेंद्र पाल सिंह का कहना है कि सूचना मिलते ही वह मौके पर पहुंचे। पता चला है कि पहले हेल्थ वर्कर वहां युवकों को कोरोना टेस्ट करवाने के लिए राजी करने में कामयाब हो गया, लेकिन अचानक लोगों ने हेल्थ वर्कर को बांधकर मारपीट की। पुलिस पीड़ित के बयान के आधार पर आरोपियों पर केस दर्ज करेगी। मामले की जांच जारी है।