नारायणपुर। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के माध्यम से जिले के गौठानों में पौधरोपण कर हरियाली लाई जाएगी। प्रत्येक गौठान में विभिन्न प्रजाति के 200 फलदार एवं छायादार पौधे लगाने की स्वीकृति उद्यानिकी विभाग को मनरेगा के माध्यम से दी गई है। इसके साथ ही सार्वजनिक स्थानों सरकारी स्कूल, कालेज, भवनोंए सड़क किनारे सहित उन स्थानों पर भी लगाए जाएंगे जहां पर सरकारी जमीन को अवैध कब्जे से मुक्त कराया गया है। पौधरोपण होने के दौरान मनरेगा के पंजीकृत परिवारों को काम भी मिलेगा और आगामी वर्षों में इन फलदार वृक्षों से महिला स्व सहायता समूहों ग्रामीणों की आजीविका भी निर्मित होगी।
सीईओ श्री राहुल देव ने बताया कि प्रतिवर्ष की तरह इस वर्ष भी बारिश में पौधे लगाने का काम बड़े पैमाने पर कलेक्टर अभिजीत सिंह के मार्गदर्शन में किया जा रहा है। गौठानों में हरियाली लाने और पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने तथा उसे सुरक्षित रखने के लिए जरूरी है कि वृहद पैमाने पर पौधरोपण किया जाए। इससे आसपास का वातावरण स्वच्छ रहेगा। श्री देव ने बताया कि वन विभाग को क्रियान्वयन एजेंसी नियुक्त करते हुए 24 किलोमीटर सड़क के किनारे नीम, आम, पीपल, बरगद, इमली आदि के पौधरोपण का कार्य करने की जिम्मेदारी दी गयी है। जिसके लिए मनरेगा के तहत् 92 लाख 49 हजार रूपये की स्वीकृति प्रदान की गयी है। वहीं गौठानों में फलदार पौधरोपण के लिए उद्यानिकी विभाग को क्रियान्वयन एजेंसी नियुक्त करते हुए 42 लाख 26 हजार रूपये की स्वीकृति प्रदान की गयी है। उद्यानिकी विभाग द्वारा गौठानों में 5400 फलदार पौधे लगाने का काम किया जायेगा। इसके अलावा ग्राम पंचायत के माध्यम से गौठान एवं चारागाह में भी पौधरोपण का कार्य किया जायेगा। जिससे मनरेगा के पंजीकृत जॉबकार्डधारी परिवारों को बारिश के मौसम में भी रोजगार प्राप्त होगा।