ग्वालियर. मध्य प्रदेश हाईकोर्ट की ग्वालियर पीठ ने एक मामले में हत्या के प्रयास के अभियुक्तों को जमानत के आवेदन पर कहा है कि वो रैन बसेरा को एक-एक एलईडी टीवी दान में दें. कोर्ट ने निर्देश देते हुए कहा कि ये टीवी 25 हजार से कम की नहीं होनी चाहिए. साथ ही दान में दी जा रही टीवी मेड इन चाइना भी नहीं होनी चाहिए. कोर्ट ने यह निर्देश, भारत के पड़ोसी देश की सीमा पर चल रहे तनाव के कारण दिया है. जानकारी के मुताबिक कोर्ट ने यह आदेश 26 जून को पारित किया, लेकिन यह मंगलवार को ग्वालियर में अतिरिक्त महाधिवक्ता (एएजी) अंकुर मोदी के माध्यम से सामने आया.
न्यायमूर्ति शैल नागू की पीठ ने दतिया जिले के निवासी अरविंद पटेल को कई शर्तों के साथ जमानत दे दी, जिनमें से एक शर्त यह भी शामिल थी कि उसे शेल्टर होम में एक टीवी सेट दान करना होगा. निर्देश के साथ यह शर्त भी रखी गयी कि दान किया जा रहा टीवी मेड इन चाइना नहीं हो. वहीं पीठ ने उसी जिले के रहने वाले सह-अभियुक्त कमलेश पाल को भी इसी शर्त के साथ जमानत दे दी.
जानकारी के मुताबिक दतिया जिले के औरिना गांव के निवासी अरविंद पटेल और कमलेश पाल और उसी गांव के दो अन्य लोगों ने एक विवाद में फरवरी में एक ग्रामीण पर कथित तौर पर गोलियां चला दी थीं. वहीं इस शर्त के साथ कोर्ट ने कहा कि दोनों अभियुक्तों को मुकदमें में पूरी तरह सहयोग करना होगा. वहीं दोनों अभियुक्त मामले से जुड़ा कोई भी खुलासा कोर्ट अथवा पुलिस अधिकारी के अलावा कहीं भी नहीं करेंगे.