जबलपुर सहित प्रदेश के अन्य सभी स्थानों पर कोरोना के मरीजों की स्थिति में सुधार हुआ है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वास्थ्य विभाग सहित कोरोना संकट में कार्य कर रहे सभी विभागों के अमले का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि उनके अथक परिश्रम तथा जनता के सहयोग से हम इस संकट पर जल्दी काबू पा लेंगे। मुख्यमंत्री आज मंत्रालय में कोरोना संकट की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। श्री चौहान ने प्रत्येक विषय की सूक्ष्म मॉनीटरिंग और अधिकारियों से गहन चर्चा कर प्रभावी क्रियान्वयन के निर्देश दिए।

जबलपुर में सभी 8 मरीज सामान्य

समीक्षा के दौराना बताया गया कि जबलपुर के सभी 8 कोरोना मरीज सामान्य हैं तथा इन्हें 14 दिन की निर्धारित अवधि होने पर टेस्ट के बाद घर भिजवा दिया जाएगा। ग्वालियर के दोनों मरीज सामान्य हैं। एक मरीज अभिषेक मिश्रा का टेस्ट नेगेटिव आया है तथा दूसरा मरीज भी ठीक हैं। भोपाल के चारों मरीज अच्छी हालत में हैं तथा शिवपुरी के दोनों मरीज ठीक हैं। इंदौर के 63 मरीज भी ठीक हालत में हैं।

अभियान में तैनात लोग लें हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि जो भी अमला कोरोना कार्य में लगा हुआ है, उन सभी को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन टेबलेट, आईसीएमआर की अनुशंसा अनुसार खिलाई जाए। प्रदेश में पर्याप्त संख्या में यह टेबलेट उपलब्ध है। बताया गया कि वर्तमान में इसका सवा दो लाख का स्टॉक है तथा रतलाम में यह टेबलेट बड़ी मात्रा में बन रही है।

लाखों लोगों को प्रतिदिन नि:शुल्क भोजन

प्रमुख सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि हेल्पडेस्क के माध्यम से जरूरतमंदों को पर्याप्त भोजन प्रदाय किया जा रहा है। प्रदेश में विभिन्न माध्यमों से प्रतिदिन लाखों व्यक्तियों को निःशुल्क भोजन कराया जा रहा है। उचित मूल्य राशन का उठाव 95 प्रतिशत है। इसके अलावा, प्रदेश के बाहर फंसे प्रदेश के लोगों को भी खाद्यान्न एवं भोजन आदि उपलब्ध कराया जा रहा है। सूरत, गोवा, पुणे में प्रदेश के लोग बड़ी संख्या में फंसे हुए हैं। उनके मध्यप्रदेश में रह रहे परिवारों का भी ध्यान रखा जा रहा है। आवश्यकता के अनुसार उन्हें खाद्य सामग्री, दवाएँ आदि दिलवाई जा रही हैं।

लॉकडाउन का प्रभावी पालन

पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी ने बताया कि प्रदेश में लॉकडाउन का प्रभावी पालन हो रहा है। इस कार्य में जनता का भी पूरा सहयोग प्राप्त हो रहा है।

टेलीमेडिसिन से भी इलाज

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इलाज के कार्य में प्राइवेट डॉक्टर्स का भी पूरा सहयोग लिए जाने के निर्देश दिए हैं। प्रमुख सचिव श्री संजय दुबे ने बताया कि टेलीमेडिसिन के माध्यम से सामान्य रोगों के इलाज की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए देशभर के लगभग 3000 डॉक्टर्स चिन्हित किए गए हैं।