भोपाल  । वरिष्ठ नेता, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने वर्चुअल रैली में कहा कि कोरोना संकट से आज पूरा विश्व प्रभावित है। लेकिन प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी की दूरदर्शिता, संकल्पशक्ति और त्वरित निर्णय लेने के कारण आज देश कोरोना जैसी महामारी से दमदारी के साथ लड रहा है। मोदी जी ने लॉकडाउन का निर्णय पूरे साहस के साथ लिया। उन्होंने कहा कि एक तरफ वो दल है जिसने सत्ता कायम रखने के लिए देश की जनता पर आपातकाल थोपा था, वहीं दूसरी तरफ ऐसे प्रधानमंत्री जिसने कोरोना महामारी से देश की जनता की जान बचाने के लिए हाथ जोड़कर लॉकडाउन का निवेदन किया। उन्होंने कहा कि यही फर्क भारतीय जनता पार्टी को कांग्रेस से अलग करता है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट हो या चीन का मामला हो, ऐसे राष्ट्र से जुडे मुद्दों पर राजनीति नहीं होना चाहिए। उन्होंने याद दिलाते हुए कहा कि बांग्लादेश युद्ध के समय अटलजी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी की तारीफ की थी। लेकिन आज विपक्षी दल घृणित राजनीति पर उतारू हो गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे विकट समय में हमें देश की अखण्डता को कायम रखने के लिए काम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बडे शर्म की बात है कि कोरोना जैसे राष्ट्रीय संकट पर भी कांग्रेस लॉकडाउन के नफे नुकसान की बात करती है।
प्रदेश में जब कोरोना ने दस्तक दी तब कमलनाथ नियुक्तियों में व्यस्त थे
श्री सिंधिया ने कहा कि आज जो पूर्व मुख्यमंत्री आरोप लगा रहे है, मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि उन्होंने कोरोना संकट के समय कितने अस्पतालों का दौरा किया ? वे कितने गरीबों से मिले ? उन्होंने कितने दौरे किए ? श्री सिंधिया ने कहा कि मध्यप्रदेश में जब कोरोना ने दस्तक दी, तब मुख्यमंत्री कमलनाथ आईफा के लिए इंदौर में बैठक कर रहे थे। उन्होंने अपनी सरकार के आखिरी 14 दिनों में कोरोना से निपटने के बजाए नियुक्तियों में लगे रहे। उन्होंने कहा कि जब शिवराजजी ने प्रदेश की कमान संभाली तब प्रदेश में एक भी कोरोना टेस्ट नहीं होता था। आज प्रदेश में प्रतिदिन 7 हजार टेस्ट हो रहे है। मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष  विष्णुदत्त शर्मा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने प्रदेश में 70 लाख मास्क का वितरण किया। इंदौर जो कोरोना हब बन चुका था, आज पूरे देश में उसकी पॉजिटिव रेट सबसे कम है। उन्होंने कहा कि विपरीत समय में  शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री बने, प्रदेश को बचाने का काम उन्होंने किया है। भाजपा प्रदेश सरकार के 100 दिन का कार्यकाल सूर्य की रोशनी जैसा छाया हुआ है। क्योंकि प्रत्येक कार्यकर्ता और जनता का विश्वास मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान पर है। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में उपलब्धियों को जनता तक पहुंचाने का काम करेंगे।