बीजिंग | चीन ने शुक्रवार को एक भारतीय कंपनी से समुद्री खाद्य उत्पादों के आयात पर रोक लगा दी। यह रोक शुक्रवार से एक हफ्ते के लिए लगाई गई है। 

पिछले दिनों फ्रोजन समुद्री मछली के पैकेट पर जिंदा कोरोना वायरस मिलने की खबरों के बाद यह कदम उठाया गया है। हालांकि, चीन ने मछली निर्यात करने वाली कंपनी का विवरण साझा नहीं किया है। खबरों के मुताबिक, शुक्रवार को भी चीन पूर्वी चीन के शेडोंग प्रांत में लियांगशान काउंटी में आयातित फ्रोजन बीफ के पैकेट पर जिंदा कोरोना वायरस पाया गया।

सीमा शुल्क के आयात और निर्यात खाद्य सुरक्षा ब्यूरो के प्रमुख बी केक्सिन के हवाले से कहा गया कि आयातित कोरोनावायरस संक्रमण के जोखिम को रोकने के लिए कोल्ड-चेन आयातित खाद्य पदार्थों के अपने निरीक्षण को और बढ़ाया जाएगा। खबरों के अनुसार, जुलाई से अब तक इस प्रकार के 25 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। 

पिछले हफ्ते यह खबर आई थी कि चीन के स्वास्थ्य प्रशासन ने क्विंगदाओ बंदरगाह शहर में आयातित प्रशीतित समुद्री मछली के पैकेट की बाहरी सतह पर जीवित कोरोना वायरस मिलने की पुष्टि की है। ‘चाइनीज सेंटर फोर डिजीज कंट्रोल एडं प्रिवेंशन’ (सीडीसी) ने पिछले शनिवार कहा था कि दुनिया में यह पहला मौका है जब प्रशीतित खाद्य पैकेट की बाहरी सतह पर जिंदा कोरोना वायरस मिला है।

चीन के बीजिंग में हाल ही में कोविड-19 मामलों का एक ‘क्लस्टर’ सामने आया है। प्रशासन ने अपने सभी करीब 1.1 करोड़ नागरिकों की जांच कराई लेकिन कोई नया ऐसा ‘क्लस्टर’ नहीं पाया गया। जुलाई में चीन ने प्रशीतित (फ्रोजन) झींगे के आयात पर अस्थायी रोक लगा दी थी क्योंकि पैकेटों और कंटेनर के अंदरूनी हिस्सों में यह घातक वायरस पाया गया था।