भोपाल । कोरोना संकट में भी प्रदेश की सरकारें और प्रशासन द्वारा श्रमिकों, विद्यार्थियों, महिलाओं-बच्चो बड़े-बुजुर्ग और ऐसे अन्य अनगिनत लोगों को अपने गृह जिले भेजने की व्यवस्था कर रहा है जो लॉक-डाउन के कारण विभिन्न प्रदेशों में फसे हुए थे। वहीं मध्यप्रदेश के विभिन्न जिलों में फसे पश्चिम बंगाल के करीब 302 लोगों को आज शासन प्रशासन और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के प्रयासों और निर्देशन पर पश्चिम बंगाल के लिए विशेष ट्रेन से रवाना किया गया। 
बैरागढ़ रेलवे स्टेशन, भोपाल से आज विशेष ट्रेन के माध्यम से कई ऐसे लोग जो लॉक डाउन के कारण किसी ना किसी कारणवश यहां फंसे हुए थे, इनमे भोपाल, इटारसी मंडीदीप, छतरपुर, जबलपुर और कटनी में निवासरत थे। जिन्हें आज समुचित व्यवस्थाओं के साथ उनके गृह राज्य भेजा गया। इन यात्रियों में कई लोग पढ़ाई, नौकरी सहित अन्य संस्थाओं में कार्यरत थे। इन सभी का स्वास्थ्य दल द्वारा मेडिकल जांच,स्क्रीनिंग करने के पश्चात विशेष ट्रेन से रवाना किया।
अपर कलेक्टर उमराव मरावी ने बताया कि कुल 302 यात्रियों को भोजन-पानी, बिस्किट के पैकेट की समुचित व्यवस्था कराई गई। विशेष ट्रेन संत हिरदाराम स्टेशन इंदौर से चलकर वर्धमान पश्चिम बंगाल की ओर जाने वाली विशेष ट्रेन से इन 302 यात्रियों को बैरागढ़ से खाना पानी एवं समस्त वस्तुओं देकर रवाना किया। साथ ही महिलाओ के लिए सैनीट्री पेड भी वितरित किये गए। 
इन सभी यात्रियों में लक्ष्मी, मोंटू राजा घोष ने शासन-प्रशासन और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का हृदय से धन्यवाद ज्ञापित किया है। उन्होंने कहा कि इस परिस्थिति और कोरोना संक्रमण के बीच हमें हमारे गृह नगर भेजने कि व्यवस्था की गई है। इसके लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान का कोटि-कोटि आभार व्यक्त करते हैं।