भोपाल ।  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने हिदायत दी कि भाजपा चुनाव के आखिरी तीन दिनों में हमें हराने के लिए खेल करती है और हम इन्हीं तीन दिनों में हार जाते हैं। सतर्क रहना है और सभी नेताओं को आखिरी दम तक जोर लगाना होगा। टिकट सर्वे के आधार पर जीत की सर्वाधिक संभावना वाले व्यक्ति को दिया जाएगा। कांग्रेस नेताओं ने  गुरुवार को खंडवा लोकसभा सहित पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव की रणनीति तैयार करने के लिए  दिनभर बैठक की।  बैठक में कमल नाथ ने कहा कि उपचुनाव से भले ही सरकार न बनती या बिगड़ती हो पर इसके अलग मायने होते हैं। ये चारों उपचुनाव प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव के लिए संदेश होंगे, इसलिए इन्हें गंभीरता से लेने की जरूरत है। चुनाव क्षेत्र के सभी प्रमुख नेताओं और कार्यकर्ताओं से विचार-विमर्श करके प्रत्याशी के नाम और चुनावी रणनीति को अंतिम रूप दिया जाएगा। जो भी जीतने वाला योग्य उम्मीदवार होगा, उसे ही हम अपना प्रत्याशी बनाएंगे। उन्होंने हिदायत देते हुए कहा कि शुरुआत में मजबूत दिखने वाली कांग्रेस आखिरी समय में पार्टी कमजोर हो जाती है। चुनाव के अंतिम तीन दिन में ही भाजपा जीत के लिए खेल करती है। इससे सतर्क रहकर मतदान केंद्र पर अंतिम समय तक जोर लगाने की जरूरत है। बैठक में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुरेश पचौरी, कांतिलाल भूरिया, प्रदेश के सह प्रभारी सुधांश त्रिपाठी, सीपी मित्तल, कुलदीप इंदौरा, संजय कपूर, प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख पदाधिकारी, महिला कांग्रेस अध्यक्ष अर्चना जायसवाल, उपचुनाव क्षेत्र के प्रभारी व प्रमुख नेता मौजूद थे। कमल नाथ ने कहा कि दमोह उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी की बड़े अंतर से जीत कार्यकर्ताओं की मेहनता का परिणाम थी। चुनाव मतदान केंद्र और मंडल स्तर के कार्यकर्ताओं ने एकजुटता के साथ लड़ा था। हमारा मुकाबला भाजपा नेताओं से नहीं बल्कि उनके संगठन से है। अब बड़ी-बड़ी सभा, रैली की जगह जनता से सीधे जुड़ाव का समय है। जिसने यह कर लिया, उसकी जीत पक्की है। इसके लिए मंडल और सेक्टर की इकाइयों में योग्य व निष्ठावान लोगों का चयन करें। इसमें तेरा-मेरा नहीं होना चाहिए। अपनी 15 माह की सरकार के कामकाज का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि मैंने किसी भी कांग्रेसजन का सिर शर्म से झुकने नहीं दिया। आज प्रदेश में महंगाई, बेरोजगारी, कानून व्यवस्था के क्या हाल हैं, सबको पता हैं। उपचुनाव के परिणाम युवा, किसान और प्रदेश के लोगों के आत्मसम्मान का भविष्य तय करेंगे। इस दौरान प्रदेश प्रभारी मुकुल वासनिक ने भी कहा कि सबको मतभेद भुलाकर एकजुटता से चुनाव लड़ना होगा। बैठक के बाद चारों क्षेत्रों के कांग्रेस पदाधिकारियों के साथ अलग-अलग बैठक करके तैयारियों की समीक्षा की गई।