देश-विदेश में चर्चित 105 साल की दिग्गज एथलीट मान कौर का निधन हो गया है। शनिवार दोपहर करीब एक बजे उन्होंने पंजाब के डेराबस्सी में आखिरी सांस ली। वे गाल ब्लैडर के कैंसर से जूझ रही थीं। उनका इलाज इन दिनों डेराबस्सी के शुद्धि आयुर्वेदा पंचकर्मा अस्पताल में चल रहा था।


मान कौर के निधन से एक घंटे पहले ही दोपहर 12 बजे उनके बेटे गुरदेव सिंह ने बताया था कि मान कौर अब ठीक हो रही हैं और उनके शरीर और पेट में दर्द कम है। पहले वे अपने पैरों को आगे-पीछे नहीं कर पाती थीं, लेकिन अब वे अपने पैरों को हिला रही हैं। कुर्सी पर बैठ पा रही हैं। लेकिन दोपहर एक बजे अचानक उनके बेटे ने ही निधन की जानकारी दी।


नारी शक्ति पुरस्कार मिल चुका था

मान कौर ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के कई इवेंट में 35 से ज्यादा मेडल जीते थे। कोविड-19 से पहले तक वे लगातार मेडल जीतकर तिरंगे की शान बढ़ाती रही हैं। उनकी उपलब्धियाें को देखते हुए पिछले साल महिला दिवस (8 मार्च) पर उन्हें नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। राष्ट्रपति भवन में सम्मान लेने के लिए मान कौर जिस फुर्ती से स्टेज पर पहुंची थीं, उसे देखकर राष्ट्रपति भी दंग रह गए थे।

नारी शक्ति पुरस्कार मिलने के बाद शाम को जब मान कौर PM नरेंद्र मोदी से मिलीं तो वह हाथ जोड़कर नतमस्तक हो गए। उनसे दोबारा मिलकर मोदी ने खुशी जताई और साथी ही उनसे झुककर आशीर्वाद मांगा। मान कौर ने भी नरेंद्र मोदी के माथे को छूकर उन्हें चढ़दी कलां में रहने का आशीर्वाद दिया।


पंजाब सरकार ने दी थी आर्थिक मदद

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की ओर से उन्हें 5 लाख रुपए का चेक डीसी पटियाला के माध्यम से मिला था। इसके अलावा शिरोमणि अकाली दल (बादल) के विधायक एन के शर्मा ने भी एक लाख का चेक अस्पताल में आकर दिया था। वहीं मास्टर्स एथलेटिक्स एसोसिएशन ने भी उन्हें आर्थिक मदद दी थी।