Tuesday, 17 September 2019, 4:36 PM

धर्म कर्म

श्राद्धपक्ष : पित्रों के तर्पण का दिवस

Updated on 17 September, 2019, 6:30
पौराणिक ग्रन्थों के अनुसार श्राद्ध पर्व सितम्बर महीने में अश्विन मास (क्वॉर) के कृष्ण पक्ष से प्रारंभ होते है, हिन्दु मान्यताओं के अनुसार श्राद्ध पर्व में पितरों का तर्पण किया जाता है, श्राद्ध पक्ष में पुरखों को बैठाया जाता है, तथा पन्द्रह दिन तक उनका शोडषपचार पूजन व उनका भोग... आगे पढ़े

श्राद्ध-श्रद्धापूर्ण स्मरण : पितरों की पूजा को समर्पित

Updated on 15 September, 2019, 6:15
हिन्दी पंचांग के आश्विन माह के कृष्णपक्ष में श्राद्ध के सोलह दिन भारतीय समाज में पितरों की पूजा के लिए समर्पित हैं। अनन्त चतुर्दशी के दूसरे दिन प्रात:काल स्नान के पश्चात पितरों की पीठ की स्थापना की जाती है। यह पीठ परिवार का कोई भी पुरुष स्थापित कर सकता है।... आगे पढ़े

पितृ पक्ष 2019 : पितृ दोष दूर करने का सबसे सही समय, 4 सरल उपाय करें इन 16 दिनों में

Updated on 14 September, 2019, 6:45
 अस दौरन पितरों के निमित्त श्राद्ध किया जाता है। मान्यता है कि हमारो पूर्वज सूक्ष्म रूप में हम तक पहुंचते हैं। अगर किसी की कुंडली में पितृदोष हो तो यह सबसे उत्तम समय है उससे मुक्ति का। अनिष्टकारी प्रभावों से बचने के लिए श्राद्ध के 16 दिनों में 4 सरल... आगे पढ़े

कालसर्प दोष क्या है? इसके भयानक लक्षण और बचाव, जानिए लाल किताब के उपाय

Updated on 14 September, 2019, 6:30
कुछ विद्वान मानते हैं कि काल सर्प दोष नहीं होता और कुछ इसे मानते हैं। दरअसल राहु और केतु के कारण ही काल सर्प दोष होता है। इसलिए लाल किताब में राहु और केतु के अचूक उपाय बताए गए हैं। आओ जानते हैं काल सर्प दोष के बारे में संक्षिप्त... आगे पढ़े

पार्वण श्राद्ध 

Updated on 13 September, 2019, 6:15
श्राद्ध क्यों : सनातन हिन्दू धर्मावलम्बियों ने पूर्व पुरूषों के प्रति आभार, आदर और श्रद्धा व्यक्त करने के लिए अपने धर्म शास्त्रों के निर्देशानुसार जिस विधि को अपनाया है। उसका नाम है श्राद्ध। श्राद्ध शब्द की उत्पत्ति श्रद्धा से हुई है। पुलस्त्य स्मृति वायु पुराण श्राद्ध तत्व आदि ग्रंथों में... आगे पढ़े

जानिए क्यों गया को कहते हैं 'मोक्ष की धरती', राम-सीता ने भी किया था राजा दशरथ का पिंडदान

Updated on 12 September, 2019, 22:45
गया: बिहार (Bihar) के गया को 'मोक्ष की धरती' भी कहते हैं. मान्यता है कि यहां खासकर पितृ पक्ष में पुरखों के पिंडदान और तर्पण से उन्हें मोक्ष मिलता है. हिंदू धर्म में गया के फल्गु तट पर पिंडदान का खास महत्व बताया गया है. गरुड़ पुराण में भी गया... आगे पढ़े

जल्द पूरा होगा मां वैष्णो देवी के भक्तों का सपना, मंदिर के लिए तैयार हो रहा सोने का द्वार

Updated on 12 September, 2019, 19:49
जम्मू: विश्व भर से सालाना लाखों की संख्या में मां वैष्णो देवी (Vaishno Devi) के दर्शनों को आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी है. जल्द ही श्रद्धालुओं (Devotees) को विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल वैष्णो देवी भवन पर मां वैष्णो देवी की प्राचीन गुफा (cave) के प्रवेश द्वार के स्वर्णिम दर्शन... आगे पढ़े

उंगलियों की दूरी भी बताती है कैसा रहेगा जीवन  

Updated on 12 September, 2019, 10:00
हाथ की रेखाओं के साथ आप उंगलियों से भी आप वर्तमान और भविष्य के बारे में जान सकते हैं। हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार,हस्तरेखा में उंगलियों की लंबाई के साथ उनकी बनावट और उनके बीच की दूरी भी इंसान के बारे में बता सकती है। अंगुलियों के बीच का अंतर भविष्य... आगे पढ़े

मनी प्लांट लगाते समय दिशा का ध्यान रखें  

Updated on 12 September, 2019, 8:00
यूं तो हर कोई मनी प्‍लांट अपने घर में लगाता है ताकि घर में आर्थिक रूप से संपन्‍नता हो लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि गलत दिशा में रखा गया मनी प्‍लांट आपको तबा‍ह कर सकता है। आर्थिक रूप से कंगाल बना सकता है। तो अगर आप भी ये पौधा... आगे पढ़े

यहां  ब्रह्मकमल से होता है अभिषेक 

Updated on 12 September, 2019, 7:00
सनातन धर्म में भगवान गणेशजी के जन्म के बारे में अनेक कथाएं प्रचलित हैं। भगवान शिव ने क्रोधवश गणेशजी का सिर धड़ से अलग कर दिया था, बाद में माता पार्वतीजी के कहने पर उन्होंने हाथी का मस्तक लगाया, लेकिन गणेशजी का जो मस्तक कटा था, उसे शिवजी ने एक... आगे पढ़े

 अनंत चतुर्दशी मनाएंगे 12 और 13 सितंबर को 

Updated on 12 September, 2019, 6:15
तिथि में वृद्धि होने से अनंत चतुर्दशी का पर्व 12 और 13 सितंबर को दोनों ही दिन मनाया जाएगा। इतना ही नहीं,  दोनों ही दिन गणेश जी की प्रतिमाएं विसर्जित कर सकते हैं। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस बार तीज तिथि उदया में नहीं मनने से यह स्थिति पैदा हुई है।... आगे पढ़े

जहां विराजते हैं जुड़वां भगवान गणेश, गीदम के जंगलों के बीच बना है एक अनोखा मंदिर

Updated on 11 September, 2019, 10:05
नई दिल्ली: गणेश चतुर्थी का त्योहार पूरे देश में बड़े धूमधाम से मनाया जा रहा है. ऐसे में देश के कई राज्यों में मौजूद मशहूर गणेश मंदिरों में भी भक्तों का तांता लगता है. इतना ही नहीं दन प्राची मंदिरों का इतिहास भी कम रोचक नहीं है. ऐसी महिमा है... आगे पढ़े

सिध्दिदायक गजवदन 

Updated on 11 September, 2019, 6:15
जय गणेश गणाधिपति प्रभु , सिध्दिदायक , गजवदन विघ्ननाशक कष्टहारी हे परम आनन्दधन ।। दुखो से संतप्त अतिशय त्रस्त यह संसार है धरा पर नित बढ़ रहा दुखदायियो का भार है । हर हृदय में वेदना , आतंक का अंधियार है उठ गया दुनिया से जैसे मन का ममता प्यार है ।। दीजिये सदबुद्धि का वरदान... आगे पढ़े

तिरुपति बालाजी: दर्शन के लिए उमड़ी भक्तों की भीड़, एक दिन में आया 2 करोड़ से ज्यादा का चढ़ावा

Updated on 10 September, 2019, 9:55
नई दिल्ली/तिरुमाला: आंध्र प्रदेश (Andra Pradesh) के चित्‍तूर (Chittoor) जिले में स्थित भगवान वेंकटेश्‍वर (Lord Venkateswara) के तिरुपति बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Temple) में भक्‍तों का तांता लगा हुआ है. हजारों मील दूर से बालाजी के भक्त प्रभू की एक झलक पाने के लिए घंटों लाइन में खड़े हैं. ये... आगे पढ़े

इस तरह धनवान लोगों के होश ठिकाने लगाए संत कबीर ने

Updated on 10 September, 2019, 6:15
तब संत कबीर दास की ख्याति चारों तरफ फैलती जा रही थी। वह बड़ी सादगी से अपना जीवन जीते थे। एक बार उनके पास कुछ बड़े सेठ आए। उन सेठों ने उनसे कहा, ‘अब आप साधारण व्यक्ति नहीं हैं, हमारे आध्यात्मिक गुरु भी हैं। आपको इस तरह से साधारण वस्त्र... आगे पढ़े

सृष्टि के परम स्वामी कृष्ण

Updated on 10 September, 2019, 6:00
मनुष्य को जानना चाहिए कि भगवान कृष्ण ब्रह्मांड के सभी लोकों के परम स्वामी हैं। वे सृष्टि के पूर्व थे और अपनी सृष्टि से भिन्न हैं। सारे देवता इसी भौतिक जगत में उत्पन्न हुए, किंतु कृष्ण अजन्मा हैं, फलत: वे ब्रह्मा और शिव जैसे देवताओं से भी भिन्न हैं। और... आगे पढ़े

उत्तम सत्य - सत्याचरण ही भगवान की पूजा 

Updated on 7 September, 2019, 6:30
सत्य का शब्दों मे वर्णन नहीं किया जा सकता। सत्य चित्त के अन्वेषण और अनुभूति का विषय है। सत्य को परमेश्वर कहा है। सत्य ही भगवान है। हम सत्य का अनुभव कर सकते हैं, उसका साक्षात्कार नहीं कर सकते हैं। सत्य को उपलब्ध किया जा सकता है, किन्तु उसका वर्णन... आगे पढ़े

भारतीय धर्मों में सर्वोपरि गणेश उत्सव 

Updated on 7 September, 2019, 6:15
भारत त्योहार प्रधान, धार्मिक आस्था और भाईचारे की भावना प्रधान, आध्यात्मिक देश है। हर दिन, हर सप्ताह, हर महीने कोई न कोई व्रत, त्योहार यहाँ मनाया जाता है, जिसकी वजह से मनुष्य कुछ हद तक अपने पर नियंत्रण कर लेता, अंकुश लगा पाता, संयम रख लेता है। उसकी स्वयं की... आगे पढ़े

मुंबई में गणेशोत्सव की रौनक, देखें, सोने-चांदी से सजे श्री गणेश

Updated on 6 September, 2019, 6:45
मुंबई में श्री गणेश उत्सव की धूम और उत्साह चरम पर है। जीएसबी सेवा मंडल पंडाल में सबसे अमीर गणेश जी देखें जा सकते हैं। यहां सोने, चांदी के बेशकीमती आभूषणों में सजकर विराजे हैं विनायक, जिन्हें देखने के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ रही हैं। ... आगे पढ़े

मुंबई के प्रसिद्ध गणेश गली चा राजा

Updated on 6 September, 2019, 6:30
मुंबई में चारों तरफ गजानन श्री गणेश का पर्व उमंग से मनाया जा रहा है। मुंबई के प्रसिद्ध गणेश गली चा राजा की पूजा अर्चना का दौर भी जारी है। श्रद्धालुओं का तातां लगा है, देखें झलकियां ... आगे पढ़े

राष्ट्रीयता का संदेश देता गणेशोत्सव

Updated on 6 September, 2019, 6:15
भारत त्योहारों का देश है और गणेश चतुर्थी उन्हीं त्योहारों में से एक है जिसे 10 दिनों तक बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। इस त्योहार को गणेशोत्सव या विनायक चतुर्थी भी कहा जाता है। पूरे भारत में भगवान गणेश के जन्मदिन के इस उत्सव को उनके भक्त बेहद ही... आगे पढ़े

राशि के अनुरुप कपड़े पहनने से मिलेगी ज्यादा सफलता 

Updated on 5 September, 2019, 6:15
अगर आप अपनी राशि के अनुसार कपड़े पहनते हैं तो आपकी सफलता की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। हर रंग हर राशि के अनुरुप नहीं होता। इसलिए कई बार राशि के विपरीत परिधानों से हमें नुकसान उठाना पड़ता है। कई बार देखा जाता है कि नये कपड़े मन में उत्साह जगाने... आगे पढ़े

भगवान गणेश को नहीं चढ़ती तुलसी  

Updated on 5 September, 2019, 6:00
भगवान गणेश की पूजा में कभी भी तुलसी का इस्तेमाल नहीं होता। पद्मपुराण आचाररत्न में भी लिखा है कि ‘न तुलस्या गणाधिपम’ अर्थात् तुलसी से गणेश जी की पूजा कभी न करें। इसके पीछे भी पौराणिक कथा है। गणेश जी ब्रह्मचारी रहना चाहते थे, पर उन्हें तुलसी के कारण ही... आगे पढ़े

नदियों के तट पर बसे हिन्दुओं के प्रमुख तीर्थ, जरूर जाएं दर्शन करने

Updated on 4 September, 2019, 6:45
हिन्दुओं के तीर्थ, मठ और प्रमुख मंदिर नदियों के तट पर बसे हुए हैं। पहाड़ों में खासकर शक्तिपीठ और गुफा आश्रमों की संख्या ही अधिक है। आओ जानते हैं नदी के तट पर बसे हिन्दुओं के प्रमुख तीर्थों के नाम। 1.श्रृंगेरी शारदाबा मंदिर मंठ : कर्नाटक की तुंगा नदी के किनारे... आगे पढ़े

गणपति पर्व से जुड़ा देश के स्वराज का गर्व

Updated on 4 September, 2019, 6:15
गणपति हिन्दुओं के आदि आराध्य देव होने के साथ-साथ प्रथम पूज्यनीय भी हैं। किसी भी तरह के धार्मिक उत्सव, यज्ञ, पूजन, सत्कर्म या फिर वैवाहिक कार्यक्रमों में सभी के निर्विघ्न रूप से पूर्ण होने की कामना के लिए विघ्नहर्ता हैं और एक तरह से शुभता के प्रतीक भी। ऐसे आयोजनों... आगे पढ़े

अनादि देवता हैं श्री गणेश 

Updated on 3 September, 2019, 6:15
शिवपार्वती ने भी विवाह के समय गणेश वंदना की थी  मुनि अनुसासन गणपतिहि पूजेऊ संभु-भवानी  कोई सुनै संसय करें। जबि सुर अनादि जियँ जानि।   रामचरित मानस के बालकाण्ड का यह दोहा है। इसमें यह वर्णित है कि मुनियों की आज्ञा सुनकर शिव पार्वती ने प्रथम पूज्य गणेश जी की पूजा की। यह... आगे पढ़े

गणेश शुभकर्ता हैं,पूज्य हैं व अनिष्टनाशक हैं 

Updated on 2 September, 2019, 6:45
गणपति आदिदेव हैं जिन्होंने हर युग में अलग अवतार लिया है। उनकी शारीरिक संरचना में भी विशिष्ट व गहरा अर्थ निहित है। शिवमानस पूजा में श्री गणेश को प्रणव (ॐ) कहा गया है। इस एकाक्षर ब्रह्म में ऊपर वाला भाग गणेश का मस्तक, नीचे का भाग उदर, चंद्रबिंदु लड्डू और... आगे पढ़े

माता पार्वती जब शिशु गणेश को छोड़ आई जंगल में, पढ़िए पौराणिक कथा

Updated on 1 September, 2019, 6:15
कहते हैं कि एक घने जंगल में शिशु गणेश को माता पार्वती छोड़कर चली गई। उस जंगल में हिंसक जीव ही घूमते रहते थे। वहां कभी कभार ऋषि मुनि भी उस जंगल से गुजरते थे। उस भयानक जंगल में एक सियार ने उस शिशु को देखा और वह उसके पास... आगे पढ़े

दक्ष प्रजापति क्यों नहीं चाहते थे कि सती का विवाह शिव से हो, पढ़िये 2 पौराणिक कथा

Updated on 31 August, 2019, 6:30
पुराणों के अनुसार दक्ष प्रजापति परमपिता ब्रह्मा के पुत्र थे, जो कश्मीर घाटी के हिमालय क्षेत्र में रहते थे। प्रजापति दक्ष की दो पत्नियां थीं- प्रसूति और वीरणी। प्रसूति से दक्ष की 24 कन्याएं थीं और वीरणी से 60 कन्याएं। इस तरह दक्ष की 84 पुत्रियां थीं। समस्त दैत्य, गंधर्व,... आगे पढ़े

ईसाई और इस्लाम से पहले धरती पर ये 15 धर्म प्रचलित थे, जो जुड़े हैं हिन्दुत्व से

Updated on 31 August, 2019, 6:15
प्रारंभ में लोग जंगली जीवन यापन करते थे। धर्म के नाम पर हजारों धर्म धर्म ऐसे थे जिनमें प्रकृति, पूर्वजों और कई काल्पिनिक देवों की पूजा करते थे। हर कबीले या समूदाय का अपना अलग देव था। लेकिन जैसे जैसे समझ बढ़ी तो धर्म का विकास होने लगा। नियम बनने... आगे पढ़े

Market Live

18+